स्वच्छता पर निबंध | Essay On Cleanliness In हिंदी

स्वच्छता पर निबंध
स्वच्छता पर निबंध

Essay On Cleanliness In Hindi स्वच्छता पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के लिए। स्कूल के छात्रों के लिए लघु और लंबा निबंध। Find short and long essay on cleanliness in Hindi – स्वच्छता पर निबंध – स्वच्छता और उसके उद्देश्य का महत्व|

स्वच्छता पर निबंध
स्वच्छता पर निबंध

स्वच्छता पर निबंध हिंदी में ( Essay On Cleanliness In Hindi )

यह सही कहा जाता है कि ‘स्वच्छता पूजा के बगल में है’। स्वच्छता का अर्थ है हमारे शरीर, मन और हमारे चारों ओर की चीजों को साफ करना। यह एक अच्छी आदत है |

यह प्रारंभिक जीवन से खेती की जानी चाहिए। स्वच्छता गंदगी को दूर रखने के अभ्यस्त कार्यों को संदर्भित करता है|

जो कि व्यक्तिगत और पर्यावरणीय स्वच्छता प्रथाओं के बाद अच्छे स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए है। सरल शब्दों में, यह साफ होने की स्थिति को संदर्भित करता है|

स्वच्छता मानव समुदाय का एक आवश्यक गुण है ।यह विभिन्न प्रकार की बीमारियों से बचाव के सरलतम उपायों में से एक प्रमुख उपाय है ।

यह सुखी जीवन की आधारशिला है । इसमें मानव की गरिमा, शालीनता और आस्तिकता के दर्शन होते हैं । स्वच्छता के द्वारा मनुष्य की सात्विक वृत्ति को बढ़ावा मिलता है ।

स्वच्छता का महत्व ( Swachata Ka Mahatva In Hindi )

स्वच्छता हमें मानसिक, शारीरिक, सामाजिक और बौद्धिक हर तरीके से स्वस्थ बनाता है। सामान्यत: हमने हमेशा अपने घर में ये ध्यान दिया है कि हमारी दादी और माँ पूजा से पहले स्वच्छता को लेकर बहुत सख्त होती है, ये कोई अलग बात नहीं है, वो बस साफ-सफाई को हमारी आदत बनाना चाहती है।

लेकिन वो गलत तरीका अपनाती है क्योंकि वो स्वच्छता के उद्देश्य और फायदे को नहीं बताती है इसी वजह से हमें स्वच्छता का अनुसरण करने में समस्या आती है। हर अभिवावक को तार्किक रुप से स्वच्छता के उद्देश्य, फायदे और जरुरत आदि के बारे में अपने बच्चों से बात करनी चाहिये। उन्हे जरुर बताना चाहिये कि स्वच्छता हमारे जीवन में खाने और पानी की तरह पहली प्राथमिकता है।

आत्मिक उन्नति के लिए निवास-स्थान के वातावरण का स्वच्छ होना अत्यावश्यक है । राष्ट्रपिता गाँधी जी स्वच्छता पर बहुत जोर देते थे । परंतु आधुनिक सभ्यता और हानिकारक उद्योगों के फैलाव के कारण पूरी दुनिया में प्रदूषण का संकट खड़ा हो गया है ।

अत: स्वच्छता में बाधक तत्वों को पहचान कर उनके प्रसार पर रोक लगानी चाहिए।

घर या अपने आसपास में संक्रमण फैलने से बचाने और गंदगी के पूर्ण निपटान के लिये हमें ध्यान रखना चाहिये कि गंदगी को केवल कूड़ेदान में ही डाले। साफ-सफाई केवल एक व्यक्ति की जिम्मेदारी नहीं है बल्कि ये घर, समाज, समुदाय, और देश के हर नागरिक की जिम्मेदारी है।

हमें इसके महत्व और फायदो को समझना चाहिये। हमें भारत को स्वच्छ रखने की कसम खानी चाहिये कि न तो हम खुद से गंदगी करेंगे और किसी को करने देंगे।

निष्कर्ष

 

सम्बंधित जानकारी:

शिक्षा के महत्त्व पर निबंध

प्रदूषण एक समस्या पर निबंध

सुभाषचन्द्र बोस जी के जीवन पर निबंध

सरदार भगत सिंह के जीवन पर निबंध