Globalization Essay In Hindi | वैश्विकरण पर निबंध

Globalization Essay In Hindi
Globalization Essay In Hindi

Globalization Essay In Hindi ग्लोबलाइजेशनवैश्वीकरण पर निबंध – What is ‘Globalization’?, Meaning of Globalization, Advantages & Disadvantages of Globalization. Globalization (ग्लोबलाइजेशन) is the widely discussed topic these days in schools and colleges. Students and children might get this topic to write on in essay राइटिंग। globalization essay in hindi

Meaning Of Globalization | वैश्वीकरण का अर्थ

ग्लोबलाइजेशन (Globalization) या वैश्वीकरण क्या हैं ? – यह एक ऐसी प्रक्रिया हैं, जिन्हें सामान्यता लोग आर्थिक रूप से ही देखते हैं. यानि पूंजी और वस्तुओ के बेरोक-टोक आवाजाही को ही वैश्वीकरण का नाम देते हैं|

मगर हकीकत में यह एक आर्थिक क्षेत्र तक सिमित न होकर राजनीतिकी, सामाजिक और सांस्कृतिक क्षेत्रों में भी इसका व्यापक प्रभाव पड़ता हैं|

वैश्वीकरण ऐसी प्रक्रिया का नाम हैं जिसमे संसार के सभी लोग आर्थिक, तकनिकी, सामाजिक और राजनितिक साधनों के समन्वयित विकास हेतु प्रयास कर रहे हैं|

Globalization Essay In Hindi | ग्लोबलाइजेशन या  वैश्वीकरण पर निबंध

इसका श्रेय कम्प्यूटर, दूरसंचार और उपग्रह प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आई क्रांति को दिया जा सकता है । अब इंटरनेट सुविधाओं के माध्यम से सूचनाओं का आदान-प्रदान बहुत आसान हो गया है । आजकल विश्व-भर के बहुत से व्यक्ति सरकारी या निजी राष्ट्रीय या विदेशी संस्थान इन सुविधाओं का लाभ उठा रहे हैं ।

उदाहरण के तौर पर इंटरनेट के माध्यम सें विश्व के दो या अधिक स्थानों पर तत्काल पत्रों का आदान-प्रदान हो सकता है । इसी प्रकार, कंपनियाँ भी सूचना और संचार प्रौद्योगिकियों की मदद से विश्व भर में माल की बिक्री और खरीद का व्यापार कर रही हैं ।

भूमंडलीकरण ने विकासशील दुनिया के लिए नई संभावनाएं लायी हैं इसने विकासशील देशों में अपनी मशीनरी को बेहतर आउटपुट और उच्च जीवन स्तर के आश्वासन के साथ स्थानांतरित करने के लिए विकसित बाजारों में महान शक्ति दी है।

हालांकि, इसमें कठिनाइयां भी सामने आई हैं, जैसे कि, सामाजिक-आर्थिक वर्गों के बीच असमानता में वृद्धि, आर्थिक गिरावट और वित्तीय बाजार में अस्थिरता।

नब्बे के दशक में, व्यापार और निवेश पर प्रतिबंध हटा दिया गया और इस बाधा को हटाने ने भारत में वैश्वीकरण की तीव्रता को तेज कर दिया।

Globalization In India | भारत में वैश्वीकरण

1990 के दशक के शुरूआत में, भारत ने विदेशी मुद्रा संकट की वजह से अपनी अर्थव्यवस्था को दुनिया में अनलॉक कर दिया, जिससे अर्थव्यवस्था के कर्ज पर चूक हुई।

भारत में लिबरलाइजेशन, निजीकरण और वैश्वीकरण के रूप में जाना जाने वाला नया आर्थिक मॉडल की धारणा के साथ भारत में अचानक नीतिगत बदलाव हुआ था (एलपीजी)।

निष्कर्ष निकालने के लिए, यह दावा किया जा सकता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था पर आर्थिक सुधारों के फायदे प्राप्त किए जा सकते हैं, यदि तभी से ऊपर उल्लिखित नकारात्मक प्रभावों जैसे कि बेरोजगारी, बढ़ती आबादी पर, स्थानीय व्यवसायों को बंद करना और अधिक कम हो जाएंगे।

साथ में, वैश्वीकरण और आर्थिक नीतियों को सुधारने, संभावित श्रम बल को समझने और काम, आय और जीवन के लिए आवश्यक सुरक्षा प्रदान करने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए ताकि वे एक तरफ उस प्रक्रिया में और दूसरे पर भी लाभान्वित हो|

Globalization essay in hindi आप को कैसा लगा ये हमें कमेंट के माधयम से जरूर बताये जिससे हम अपने लेख में और भी सुधार ला सके |

#सम्बंधित : Hindi Essay, Hindi Paragraph, हिंदी निबंध।

स्वच्छता पर निबंध | Essay On Cleanliness In हिंदी

प्रदूषण एक समस्या पर निबंध |Essay on pollution a problem

शिक्षा के महत्त्व पर निबंध | Importance of education short essay in Hindi

Essay on Pollution in Hindi| प्रदूषण एक समस्या पर निबंध

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*